बिहार में यूटर्न…..चाचा-भतीजा रिटर्न

नीतीश बने सीएम, और तेजस्वी यादव बने डिप्टी सीएम

जी हां एक बार फिर बिहार के राजनीति ने करवट ली नया सियासी समीकरण कुछ इस तरह रहा कि काफी समय से एनडीए से नराज चल रहे बिहार के और कहा जाए तो देश के सबसे अनुभवी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चाल बदलते हुए बीजेपी गठबंधन  से किनारा करते हुए महागठवंधन की तरफ रूख कर नई सरकार बनाने का दावा पेश किया । 2020 में जेडीयू और बीजेपी ने साथ में चुनाव लड़ कर सरकार बनाई . कम सीटें होने के बाद भी  नीतीश कुमार ने सीएम पद की शपथ ली तभी से ही दोनों दलों के बीच खट-पट की खबरें आती रहीं कई मुद्दों पर दोनों दलों के नेता अलग- अलग दिखे।  जेडीयू ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गठबंधन तोड़ दिया कि वो बिहार मे भी महाराष्ट्र  जैसे समीकरण बनाना चाहती है। जिसकी वजह बताए गए पूर्व जेडीयू नेता और केंद्रीय मंत्री रहे आरसीपी सिंह जिनकी  जेडीयू छोड़कर बीजेपी में जाने की खबरें आ रही थी। लेकिन, नीतीश ने अपने अनुभवी दांव से बिहार में महाराष्ट्र वाला समीकरण चलने नहीं दिया।  अपने पुराने दोस्त और राजनीतिक प्रतिद्वंदी  लालू प्रसाद यादव की पार्टी आरजेडी से गठबंधन करते हुए बिहार को एक नई सरकार दी जिसके परिणाम स्वरूप नीतीश कुमार ने बिहार में आठवीं बार मुख्यमंत्री पद का शपथ ली साथ ही लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे और राजनीतिक वारिस तेजस्वी यादव को डिप्टी सीएम बनाकर विपक्ष और देश की राजनीति को एक नई दिशा दिखाई। ये भी कहा जा सकता है कि ये राजनीतिक समीकरण बिहार को एक नई राजनीतिक राह पर अग्रसर कर सकता है।  नई महागठबंधन सरकार में जेडीयू ,आरजेडी और कांग्रेस समेत सात दल शामिल हैं।

 नई कैबिनेट में संभावित मंत्रियों की सूची

  • RJD कोटे सेः तेजप्रताप यादव, आलोक कुमार मेहता, अनिता देवी, जितेन्द्र कुमार राय, चन्द्रशेखर, कुमार सर्वजीत, बच्चा पाडेंय, भारत भूषण मंडल, अनिल सहनी, शाहनावाज, अख्तरूल इस्लाम शाहीन, समीर महासेठ, भाई वीरेंद्र, ललित यादव, कार्तिक सिंह, वीणा सिंह, रणवीजय साहू, सुरेन्द्र राम
  • JDU कोटे सेः विजय कुमार चौधरी, विजेन्द्र प्रसाद यादव, अशोक चौधरी, उपेन्द्र कुशवाहा, शीला कुमारी, श्रवण कुमार, मदन सहनी, संजय कुमार झा, लेशी सिंह, सुनील कुमार, जयंत राज, जमां खान