बिहार में BJP और JDU  टूट सकता है गठबंध

बिहार में BJP और JDU  टूट सकता है गठबंध


बिहार मे एक बार फिर jdu और bjp का गठबंधन फिर टूट सकता है। 11 अगस्त को दोनों शायद फिर अलग हो जाएगे। राज्य में jdu और rjd कि सरकार बन सकती है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने सभी विधायकों और सांसदों को दो दिन पटना आने के लिए कहा उधर rjd भी यही कर रही है। मंगलवार को तेजस्वी यादव अपने सभी विधायकों  के साथ बैठक करेगी। दूसरी और कांग्रेस ने भी अपने विधायकों को बैठक के लिए पटना बुलाया है। नीतीश के करीबी सूत्रों का कहना है की  बिहार भाजपा नेताओं द्वारा उन पर काफी बार हमला किया गया है। उनका यह भी कहना है कि 2019 में  नरेंद्र मोदी सरकार में केवल एक ही मंत्री पद की नियुक्ति उनकी पार्टी के लिए की गई थी। jdu प्रमुख राज्य और राष्ट्रीय चुनाव एक साथ करने के भी खिलाफ थे संसद के चुनाव एक साथ करने का विचार पीएम मोदी का था। जिसका विपक्ष ने कड़ा  विरोध किया था।
दिल्ली में झंझारपुर के JDU सांसद रामप्रीत मंडल ने कहा कि बिहार की राजनीति मे कुछ भी हो सकता है। यह एक तरह का टर्निंग पॉइंट है। उन्होंने कहा की हमारे मुख्यमंत्री जो भी फैसला लेंगे वह ठीक होगा। 2020 में नीतीश की पार्टी jdu की 28 सीट हट गई थी और वह 43 पर आ गई थी जबकि bjp की 21 सीट से 74 चली गई थी। इसके बाद भी  नीतीश को मुख्यमंत्री बनाया गया था।
रविवार को नीतीश कुमार ने सोनिया गांधी से भी बातचीत की है। शनिवार को पूर्व केंद्र मंत्री ने भ्रष्टाचार के आरोपों के बीच jdu से इस्तीफा दे दिया। बिहार मे आरसीपी सिंह और नीतीश के बीच कुछ समय से मतभेद भी है। jdu की तरफ से आरसीपी सिंह एक नोटिस जारी किया गया उन पर आरोप लगाया गया की पार्टी मे रहते हुए उन्होंने संपत्ति बनाई है। आरसीपी ने नोटिस का कोई जवाब नहीं दिया बल्कि इस्तीफा दे दिया। इसके अलावा पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने कहा की हम ने भी विधायक दल की बैठक बुलाई है।मंगलवर को नीतीश द्वारा एक अहम बैठक की जाएगी।