राष्ट्रपति संग सीएम ने किया विश्वविद्यालय का शिलान्यास

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द व यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ आज प्रयागराज में अपने दौरे पर हैं। अपने हाईकोर्ट दौरे के दौरान आज राष्ट्रपति व यूपी के सीएम योगी ने इलाहाबाद में नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी व अधिवक्ता चैम्बर सहित मल्टीलेवल पार्किंग का शिलान्यास किया। इस दौरान हाईकोर्ट के अधिवक्ता एबी सरन के तैल चित्र का अनावरण भी किया गया। विधि विशेषज्ञों की राय पर बनने जा रही नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी को विधि छात्रों के लिहाज से काफी अहम माना जा रहा है।

सीएम योगी ने की राष्ट्रपति की अगवानी !

आज अपने प्रयागराज दौरे पर निकले राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द के बम्हरौली एयरपोर्ट पहुँचने पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व प्रयागराज की महापौर अभिलासा गुप्ता नंदी द्वारा उनकी अगवानी की गई। उनके स्वागत के दौरान अन्य कई गणमान्य लोग मौजूद रहे। उनके स्वागत में बम्हरौली एयरपोर्ट से लेकर हाईकोर्ट तक पहुँचने वाले मार्ग को अनेक स्वागत होर्डिंगों से सजाया गया

बोले सीएम योगी, प्रयागराज धर्म, शिक्षा व न्याय

नेशनल लॉ विश्वविद्यालय शिलान्यास के दौरान का केन्द्र दिये गये अपने भाषण में सीएम योगी आदित्यनाथ ने राष्ट्रपति का अभिनन्दन करते हुय़े कहा कि प्रयागराज धर्म, शिक्षा व न्याय का केन्द्र है। ये त्रिवेणी की धरती है। सीएम योगी ने कहा कि प्रयागराज में हमने वर्षों से लंबित योजनाओं का शिलान्यास किया है। उन्होने कहा कि प्रयागराज वो नगर है, जिस पर प्रदेश की तकरीबन 24 करोड़ जनता न्याय के लिये निर्भर है। उन्होने कहा कि आज हम डिजिटल युग में जी रहे हैं, हमने कोरोना के दौरान तकनीकि का महत्व जाना है।  हम लगातार उस दिशा में काम कर हैं, जिसमें प्रदेश के हर नागरिक की खुशहाली हो। प्रयागराज अब तक जाम की समस्या से लगातार जूझता है, लेकिन अब मल्टीलेवल पार्किंग बन जाने से इस समस्या से निजात मिलेगा।

बोले महामहिम महिलाओं को मिले ज्यादा भागीदारी

अपने प्रयागराज दौरे पर पहुँचे राष्ट्रपति रामनाथ ने अपने भाषण में बोलते हुये कहा कि न्यायपालिका में महिलाओं की भागीदारी बढ़नी चाहिये। महिलाओं में न्याय की समझ अधिक बताते हुये उन्होने कहा महिलायें एक साथ पति, पुत्र, ससुराल, मायका सब एक साथ संभालती हैं, उनका समन्वय करती हैं। वे सबके साथ न्याय करती हैं, लिहाजा उनका प्रतिनिधित्व बढ़ना चाहिये। इसके साथ ही उन्होने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट देश का चौथा स्थापित हाईकोर्ट है। यहाँ से महामना मदन मोहन मालवीय, पुरूषोत्तम दास टन्डन व मोतीलाल नेहरू जैसी कई महान विभूतियाँ निकलीं हैं, जिन्होने देश का मान बढ़ाया है।