एसिडिटी और गैस की समस्या से ये पाँच योगासन दिलाएंगे

एसिडिटी और गैस की समस्या आजकल बहुत साधारण हो गई है, लोगों को आसानी से ये समस्या हो जाती है। पर अगर ये समस्या ज्यादा बढ जाए तो काफी खतरनाक परिणाम हो सकते है। यह समस्या अधिक तीखा या मीठा खाने से होती है, इसके अलावा स्मोकिंग आदि से भी यह समस्या होती है। इसमें कई बार घरेलू उपाय भी काम नहीं कर पाते है। यदि आप भी इस परेशानी से जूझ रहे है तो इन 5 योगासनों को अपने रूटीन में जोड़ लीजिए।

वज्रासन

वज्रासन एक ऐसा आसन है जिसे आप भोजन करने के बाद भी कर सकते है और यह आसन भोजन को पचाने में मदद भी करता है। गैस और एसिडिटी की संभावनाओं को भी कम करता है।

अर्धमत्स्येन्द्रसन

इस आसन को करने से पेट पर दबाव पड़ता है जिससे उस जगह के ब्लड का सर्कुलेशन बढ़ता है। पाचन तंत्र को भरपूर मात्रा में आक्सिजन मिलती है जिससे एसिडिटी की समस्या तो ठीक होती ही है साथ में शरीर से गंदगी भी साफ होती है।

अधोमुख श्वानासन

यह आसन भी गैस और एसिडिटी के लिए बहुत कारागार है, इस आसन को करते समय सारा भार हाथ और पैरों पे पढ़ता है जिससे शरीर को भरपूर आक्सिजन मिलता है और एसिडिटी से होने वाली जलन से छुटकारा मिलता है ।

बालासन

बालासन से भी शरीर को एसिडिटी से छुटकारा मिलता है, यह आसान करने से शरीर के अंगों की मालिश हो जाती है, और सभी अंग अच्छे से अपना काम कर पाते है।   

 

वीरभद्रासन-2

वीरभद्रासन-2 जिसे वॉरियर पोज़-2 के नाम से भी जाना जाता है, एसिडिटी से छुटकारा पाने में बहुत असरदार है। इससे पेट की लगभग सारी समस्याएँ दूर होती है। यह आसन पाचन तंत्र को मजबूत और दुरुस्त बनाता है।