राष्ट्रीय ध्वज ‘तिरंगा’ के डिज़ाइनर की जयंती

भारत इस साल आजादी की 75वी सालगिरह पर अमृत महोत्सव मना रहा है।  इसके चलते प्रधानमंत्री ने हर घर तिरंगा योजना चलाई है, जिसमें उन्होंने भारतवासियों से 13 से 15 अगस्त के बीच अपने घर में तिरंगा लगाने की अपील करी है। तिरंगा भारत का बहुत महत्वपूर्ण अंग है, पर क्या आप जानते है तिरंगे का अगस्त माह से अलग नाता भी है क्योंकि  ‘पिंगली वेंकैया’ जिन्होंने तिरंगे का डिजाइन तैयार किया था, 02 अगस्त को उनकी जयंती होती है।

पिंगली वेंकैया का जन्म 02 अगस्त 1876 को आंध्र प्रदेश के मछलीपट्टनम शहर के पास भाटलापेनुरम् में हुआ था। युवा अवस्था में उन्हें ब्रिटिश भारतीय सेना के रूप में अफ्रीका भेज दिया गया था।

वेंकैया ने भारत के लिए कई राष्ट्रीय ध्वज तैयार किए जिसमें से 1921 में महात्मा गांधी ने एक डिजाइन को मंजूरी दी, प्रस्तुत संस्करण में लाल और हरी धारिया और केंद्र में गाँधीवादी चरखा था। गांधी जी के कहने पर उन्होंने बीच में सफेद धारी जोड़ दी और तिरंगा तैयार हो गया।

1921 से काँग्रेस ने अपनी सारी बैठकों में तिरंगे का अनौपचारिक रूप से इस्तेमाल शुरू कर दिया था पर 1931 तक तिरंगे को उस रंग योजना में नहीं अपनाया था जो आज है। 1931 के बाद तिरंगे को आज की रंग योजना-केसरिया-सफेद-हरा और बीच में चरखा का औपचारिक इस्तेमाल शुरू कर दिया गया था।

पिंगली वेंकैया की मृत्यु 1963 में गरीबी और गुमनामी में हुई थी। 2009 में भारत सरकार ने उनके सम्मान में एक डाक पत्र जारी किया था, 2014  में ऑल इंडिया रेडियो विजयवाड़ा स्टेशन का नाम उनके नाम पर रखा गया।