बढ़ते मानसून के साथ चारधाम के पर्यटक और पंजीकरण घटे

मानसून की शुरुआत हो चुकी है  कई इलाकों में बरसात की वजह से कठिनाइयां सामने आ  रही है इसी की वजह से चारधाम में भी श्रद्धालुओं की भीड़ कम हो चुकी है यह इस सीजन में लोग घूमना पसंद करते है और कई सारे लोग चारधाम यात्रा की योजना बनाते है पर बारिश की वजह से पर्यटकों की संख्या बहुत ज्यादा फीसदी में गिरी है  जहाँ केदारनाथ और बद्रीनाथ में18 से 20 हजार की संख्या में श्रद्धालु पहुँच रहे थे अब वो संख्या घट  कर 7 से 10 हजार के बीच हो गई है  पंजीकरण भी 25 से 35 हजार के बीच हो रहे थे अब वो संख्या 50% से भी ज्यादा गिर चुकी है और  अब पंजीकरण भी केवल 10 से 15 हजार के बीच हो रहे है  मंगलवार को बद्रीनाथ में केवल 7210 श्रद्धालु पहुंचे थे केदारनाथ में 5 से 10 जून के बीच 20 से 22 हजार श्रद्धालु आ रहे थे अब वो संख्या घटकर केवल सात से आठ हजार हो गई है मंगलवार को केदारनाथ में केवल 8437 श्रद्धालु पहुंचे थे इसी के साथ गंगोत्री ओर यमनोत्री धामों में भी श्रद्धालुओं की संख्या कम हो गई है गंगोत्री में जहाँ 10 से 12 हजार श्रद्धालु आ रहे थे  अब यह संख्या घट के 4 से 6 हजार हो गई है गंगोत्री के लिए पहले 15 से 18 हजार पंजीकरण हो रहे थे अब केवल 7 से 8 हजार हो रहे है वही यमनोत्री में 10 हजार श्रद्धालु रोज पहुँच रहे थे अब यहाँ  केवल 3 से 5 हजार श्रद्धालु ही पहुँच  रहे है पंजीकरण भी पहले 10 से 12 हजार हो रहे थे अब केवल 4 से 6 हजार ही हो रहे है यात्रा रूट के होटलों में भी कम  दबाव है और चारधाम यात्रा के लिए पहले ऋषिकेश और हरिद्वार जिले में ऑफलाइन पंजीकरण को लेकर काफी भीड़ रहती थी अब बहुत  कम संख्या में श्रद्धालु ऑफलाइन पंजीकरण के लिए आ रहे है हरिद्वार के केंद्रों में 450 तक पंजीकरण हो रहे है जहाँ पहले 6 हजार तक श्रद्धालुओं की  भीड़ लगि रहती थी हालांकि पंजीकरण एक दिन में 2500 तक होता था ओर शेष को लोटना  पड़ता था