यूपी चुनाव में मिली हार के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती एक्शन, भाईचारा कमेटी को किया भंग, जानें पार्टी ने क्या लिए फैसले

लखनऊ: यूपी विधानसभा चुनाव में बसपा को बडी हार का सामना करना पड़ा था, जिसके चलते बसपा सुप्रीमो मायावती एक्शन लेते हुए रविवार को पार्टी की मुस्लिम भाईचारा कमेटी को भंग कर दिया है। इस दौरान कुछ पार्टी के प्रवक्ताओं को हटा दिया है। बसपा अध्यक्ष मायावती ने भतीजे आकाश आनंद राष्ट्रीय कोआर्डिनेटर के साथ यूपी की बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है।

लोकसभा चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी के जनाधार को फिर से वापस लाने में जुटेंगे। वहीं मायावती ने बैठक से पहले अपने सभी चारों प्रवक्ताओं को उनके पद से हटा दिया था. इसके साथ ही मीटिंग में पहुंचे शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव में बसपा के प्रत्याशी होंगे।

3 नए प्रभारी बनाए सीधे मायावती को करेंगे रिपोर्ट-

3 नए प्रभारी बनाए हैं जो सीधे मायावती को रिपोर्ट करेंगे. यह जिम्मेदारी मुनकाद अली, राजकुमार गौतम और डॉ. विजय प्रताप को दी गई है. यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में बसपा प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों में से सिर्फ एक सीट पर ही जीत दर्ज कर सकी है।

मीटिंग में पार्टी ने बनाई आगे की रणनीति-

इस मीटिंग में पार्टी के महासचिव सतीश चन्द्र मिश्रा, बसपा के विधायक उमा शंकर सिंह भी मौजूद रहे. मायावती ने हार के कारणों की समीक्षा की और आगे के लिए नए सिरे से रणनीति बनाने के निर्देश पार्टी पदाधिकारियों को दिए।