सिसोदिया की बड़ी घोषणाएं , बोले- ‘अगले पांच साल में मिलेंगी 20 लाख नई नौकरियां’, जाने और क्या बोले

आज वित्तीय वर्ष 2022-23 का दिल्ली सरकार बजट पेश कर रही है. दिल्ली के वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने इस बार के बजट को रोजगार बजट का नाम दिया है. सिसोदिया ने बोला कि युवाओं को रोजगार देना हमारी सरकार की पहली प्रार्थमिकता है. उन्होंने बताया कि सरकार अगले पांच सालों में राज्य के युवाओं को 20 लाख नई नौकरियां देगी. सभी विधायकों को इस बार बजट पढ़ने के लिए टैबलेट दिए गए हैं.

अन्य राज्य भी ले रहे हमारे काम से प्रेरणा- सिसोदिया

बजट पढ़ते हुए सिसोदिया ने कहा कि ये हमारी सरकार का 8वां बजट है. हमारी सरकार ने शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में ऐतिहासिक काम किया है, जिससे अन्य राज्य भी प्रेरणा ले रहे हैं. दिल्ली के 75% घरों में बिजली का बिल जीरो आता है. हमने गली गली सीसीटीव लगाकर अपराध रोकने में मदद की है. इतना ही नहीं सरकार ने अंतरराष्ट्रीय खेल सुविधाएं डेवेलप की, डोर स्टेप डिलीवरी की शुरुआत की. अब लोग सरकारी दफ्तर के नहीं बल्कि सरकारी कर्मचारी लोगों के चक्कर काटते हैं.

अगले पांच सालों में 20 लाख नई नौकरी होंगी- सिसोदिया

सिसोदिया ने कहा, ”कोविड की परिस्थितियों को इसलिए संभाल लिया गया, क्योंकि पहले ही स्वास्थ्य के क्षेत्र में सरकार ने निवेश किया था.  कोविड में बहुत लोगों को नुकसान हुआ. इस महामारी से निपटन लिए, अब रोजगार और बढ़ाने की जरूरत है.” उन्होंने कहा, ”इस बार रोज़गार बजट पेश कर रहा हूं. 2047 तक दिल्ली वालों की आय सिंगापुर के उस वक्त की लोगों की आय के तीन गुना करने का निश्चय किया गया है. अगले पांच सालों में कम से कम 20 लाख नई नौकरी पैदा होंगी.”

रोजगार बाजार 2.0 पोर्टल लाएंगे- सिसोदिया

सिसोदिया ने बताया, ‘’सरकार रोजगार की संख्या 56 लाख से बढ़ाकर 75 लाख करने पर काम करेगी. भारत की युवा आबादी हमारी ताकत है. इस आबादी को रोजगार देना होगा. वो खर्च करेगा तो बाजार में मांग और ताकत बढ़ेगी. रोजगार विकास समानता की गारंटी है.’’ उन्होंने कहा, ‘’कोरोना के कारण लोग New Poor की श्रेणी में आ गए. पिछले सात सालों में दिल्ली सरकार ने एक लाख 78 हजार से ज्यादा युवाओं को सरकारी नौकरी दी है. साल 2013 से पहले 9 साल तक ना के बराबर नौकरी दी गई थीं. हम रोजगार ढूंढने और देने वालों के लिए रोजगार बाजार 2.0 पोर्टल पेश करेंगे.’’

वित्ता मंत्री सिसोदिया ने बताया इतने मिले रोज़गार –

  • 51307 पक्की सरकारी नौकरी दी.
  • 2500 विश्वविद्यालयों
  • 3000 अस्पतालों
  • 25000 गेस्ट टीचर्स भर्ती हुए
  • 50000 स्वच्छता और सुरक्षा में रोजगार दिए गए हैं.