शिवपाल के परिवर्तन रथ पर जनेश्वर-मुलायम सिंह की तस्वीरें,

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों के मद्देजनर हर राजनीतिक पार्टी तैयारियों में जुट गई हैं. शिवपाल सिंह के नेतृत्व वाली प्रगतिशील समाजवादी पार्टी भी सामाजिक परिवर्तन रथयात्रा निकालने की तैयारी में है.

उत्तर प्रदेश में विधासभा चुनावों की अग्रिम तैयारियों को लेकर राजनीतिक पार्टियां युद्धस्तर से जुट गई हैं |  प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (प्रसपा) भी विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी है. पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल यादव सामाजिक परिवर्तन रथ यात्रा की शुरुआत करने वाले हैं. भले ही समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष और उनके भतीजे से जारी अनबन खत्म न हुई हो, शिवपाल यादव मुलायम सिंह के प्रति वैसा ही श्रद्धा बनाए हुए हैं.

यही वजह है कि जिस बस के जरिए शिवपाल सिंह यादव सामाजिक परिवर्तन यात्रा निकालेंगे, उस पर उन्होंने समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की तस्वीरें भी लगाई हैं. तस्वीर में भी मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव की नजदीकी नजर आ रही है. सपा से प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के गठबंधन का ऐलान भी नहीं हुआ है.

शिवपाल यादव कई बार साफ कर चुके हैं कि उनकी प्राथमिकता समाजवादी पार्टी है लेकिन उनके भतीजे अखिलेश यादव इसके लिए तैयार नहीं दिख रहे हैं. अखिलेश यादव सामाजिक आयोजनों के दौरान भी यह कह चुके हैं कि वे फिलहाल राजनीतिक रूप से अपने चाचा शिवपाल यादव की वापसी अपनी पार्टी में नहीं कर रहे हैं. दोनों नेताओं के बीच जारी अनबन, खुद मुलायम सिंह भी अब तक नहीं खत्म करा सके हैं.

मुलायम सिंह, जनेश्वर मिश्र की भी लगीं तस्वीरें

प्रगितशील समाजवादी पार्टी, लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव इटावा से ही यात्रा की आगाज करेंगे. सैफई के एसएस मेमोरियल इंटर कॉलेज में परिवर्तन यात्रा की बस खड़ी की गई है. परिवर्तन रथ की तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही हैं. बस में समाजवादी विचारधारा के लिए विख्यात रहे जनेश्वर मिश्र, मुलायम सिंह यादव और शिवपाल की तस्वीरें लगी हैं.

वहीं सामाजिक परिवर्तन रथयात्रा के इस तक मीडिया की एंट्री नहीं है. बस के अंदर की तस्वीरें बेहद आलिशान हैं और किसी फाइल स्टार होटल की तरह अंदर नजारा देखने को मिल रहा है. आलिशान सीटें लगाई गई हैं, वहीं इनडोर नजारा भी बेहद खूबसूरत है. स्थानीय नेतृत्व का दावा है कि बस को कुछ दिनों में सार्वजनिक कर दिया जाएगा. लोग शिवपाल यादव की इस महत्वाकांक्षी रथयात्रा को लेकर बेहद उत्साहित हैं.

आलिशान है परिवर्तन रथयात्रा का बस.
अखिलेश का सहयोग चाहते हैं शिवपाल!

पंचायत 2021 के एक कार्यक्रम के दौरान शिवपाल यादव ने कहा था कि अगर अखिलेश यादव भी मुलायम सिंह की राह पर चले होते तो कोई परेशानी ही नहीं होती. वे सपा को अपनी पहली प्राथमिकता भी बता चुके हैं. शिवपाल सिंह यादव का दर्द तब छलक पड़ा था जब उन्होंने यह कहा कि अखिलेश यादव से मुलाकात करने के लिए उन्होंने कई बार वक्त मांगा लेकिन अखिलेश यादव ने उन्हें नजरअंदाज कर दिया