भारत – अफगानिस्तान का आयात , निर्यात ठप्प

अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा होने के साथ ही अब उसके साथ पड़ोसी और अन्य देशों के साथ संबंध भी बदलने लगे है. भारत और अफगानिस्तान गहरे दोस्त रहे हैं, लेकिन तालिबान ने अफगानिस्तान पर हुकूमत कायम करते ही भारत के साथ आयात और निर्यात दोनों ही बंद कर दिया है. फेडरेशन ऑफ इंडिया एक्सपोर्ट ऑर्गनाइजेशन के डॉ. अजय सहाय ने इस बात की पुष्टि की है. समाचार एजेंसी ANI  से डॉ. अजय सहाय का कहना है –“तालिबान ने सभी कार्गो गातिविधियों पर रोक लगा दी है . हमारा माल अक्सर पाकिस्तान के रास्ते ही सप्लाई होता था, जो मौजूदा वक्त में रोक दिया गया है. अफगानिस्तान की स्थिति पर हम नज़र बनाए हुए है . जल्द ही सप्लाई को शुरू करने की कोशिश की जाएगी . लेकिन वर्तमान हालात ये है कि तालिबान भारत से आयात- निर्यात  ठप्प कर दिया है .”

भारत और अफगानिस्तान में बड़े स्तर पर होता है ट्रेड

डॉ. अजय सहाय ने ये जानकारी भी दी कि बिजनेस के मामले में भारत अफगानिस्तान का सबसे बड़ा पार्टनर है. भारत और अफगानिस्तान में बड़े स्तर पर होता है ट्रेड होता आया है . साल 2021 में हमारा एक्सपोर्ट 835 मिलियन डॉलर और निर्यात 510 मिलियन डॉलर था . इसके साथ ही भारत – अफगानिस्तान में बड़े स्तर पर इनवेस्टमेंट भी किया गया है. लेकिन अब अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा होने के साथ ही इन तमाम बिजनेस और ट्रेड पर गहरा असर पड़ा है .

मंहगाई की मार

भारत अफगानिस्तान से चीनी, चाय, कॉफी, मसाला समेत अन्य चीज़ें एक्सपोर्ट करता है और बड़े स्तर पर ड्राई फ्रूट्स, प्याज  इम्पोर्ट किए जाते हैं. ऐसे में हो सकता है कि आने वाले दिनों मे ड्राई फ्रूट्स के दाम बढ़ जाए. आपको बता दें कि वैसे तो तालिबान ने ऐलान किया था कि वह भारत से अच्छे संबंध चाहता है, साथ ही भारत यहां पर जारी अपने सभी काम और निवेश को बिना किसी दिक्कत के पूरा कर सकता है ,  लेकिन जिस तरह से  अफगानिस्तान ने भारत के साथ आयात , निर्यात ठप्प कर दिया है उससे तो साफ जाहिर है कि आने वाले दिनों में कई चीजों के दाम बढ़ सकते है .