Chocolate Day 2022: चॉकलेट डे आज, जाने क्या है इसका इतिहास

प्रपोज डे के बाद वैलेंटाइन वीक का तीसरा दिन यानी 9 फरवरी को चॉकलेट डे के रूप में मनाया जाता है. कपल्स एक-दूसरे को इस दिन चॉकलेट गिफ्ट करते हैं और अपने प्यार का इजहार करते हैं. यंग कपल्स में चॉकलेट डे का क्रेज काफी ज्यादा देखने को मिलता है.

क्यों मनाया जाता है चॉकलेट डे?

इस दिन हर उम्र के लोग एक-दूसरे को चॉकलेट देते हैं. चॉकलेट एक ऐसी चीज है जो हर आयु वर्ग के लोगों को पसंद होती है. चॉकलेट सेहत के लिए काफी फायदेमंद मानी जाती है. चॉकलेट में कई एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो आपके ब्लड फ्लो, हार्ट और स्किन के लिए फायदेमंद मानी जाती है.

चॉकलेट इस दिन आपके वैलेंटाइन के लिए कभी न खत्म होने वाले प्यार का प्रतीक है. लोग इस दिन चॉकलेट देकर अपने प्यार का इजहार करते हैं. ऐसे में इस दिन आप अपने पार्टनर को चॉकलेट देकर अपने रिश्ते को और मजबूत कर सकते हैं.

चॉकलेट डे का क्या है इतिहास

माना जाता है कि सबसे पहले अमेरिका में 4 हजार साल पहले कोको का पेड़ देखा गया था. अमेरिका के जंगल में कोको के पेड़ की फलियों के बीज से चॉकलेट बनाई गई. दुनिया में सबसे पहले अमेरिका और मैक्सिको ने चॉकलेट पर प्रयोग किया था.

कहा जाता है कि सन् 1528 में स्पेन के राजा ने मैक्सिको पर कब्जा कर लिया. यहां राजा को कोको बहुत अच्छा लगा. इसके बाद राजा कोको के बीज को मैक्सिको से स्पेन ले गया. जिसके बाद वहां चॉकलेट चलन में आ गई.

सन 1828 में कॉनराड जोहान्स वान हॉटन नाम ने कोको प्रेस नाम की एक मशीन बनाई. कहा जाता था कि पहले चॉकलेट का स्वाद तीखा होता था. पर जोहान्स ने जो मशीन बनाई थी, उससे उसने चॉकलेट के तीखेपन को दूर किया. सन 1848 में ब्रिटिश चॉकलेट कंपनी जे.एर फ्राई एंड संस ने कोको में बटर, दूध और चीनी मिलाकर इसे सख्त बनाकर चॉकलेट का रूप दिया. ऐसे में समय के साथ-साथ चॉकलेट के स्वाद में भी बदलाव आता गया.

ऐसे सेलिब्रेट करें चॉकलेट डे

सेहत के साथ ही स्किन के लिए चॉकलेट काफी फायदेमंद होती है. ऐसे में आप इस बार पार्टनर को सिर्फ चॉकलेट गिफ्ट करने के अलावा कुछ और भी कर सकते हैं. इस दिन ब्रेकफास्ट में चॉकलेट से जुड़ी कोई डिश बना सकते हैं या उनके लिए स्पा में चॉकलेट बॉडी मसाज भी बुक करा सकते हैं. इससे उनकी थकान भी मिट जाएगा और उनकी स्किन पर भी ग्लो आएगा.