पंजाब चुनाव 2022: पंजाब के होशियारपुर जिले में राजनाथ सिंह ने राहुल गांधी को घेरा, कहा-‘उनको इतिहास की जानकारी नहीं’

नई दिल्ली: राजनाथ सिंह शुक्रवार को पंजाब होशियारपुर जिले में चुनावी रैली को संबोधित करने पहुंचे थे। यहां, राजनाथ सिंह ने राहुल गांधी द्वारा संसद में चीन और पाकिस्तान को मिलाने वाले बयान पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह पलटवार किया है। कांग्रेस और राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि, नेहरू और इंदिरा सरकार के समय अंतरराष्ट्रीय क्षेत्रों में दो बड़े कब्जे हुए थे। रक्षा मंत्री ने कहा कि, राहुल गांधी गलवान घाटी पर अपने दावों से इतिहास को बिगाड़ने की कोशिश में लगे हुए हैं।

होशियारपुर जिले में भाजपा उम्मीदवार रघुनाथ सिंह राणा के लिए प्रचार करने पहुंचे थे, इस दौरान उनके साथ केंद्रीय मंत्री सोम प्रकाश, वरिष्ठ बीजेपी नेता अविनाश राय खन्ना और कई अन्य नेता मौजूद थे। चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि, राहुल गांधी ने इतिहास को मोड़ने की कोशिश की है और गलवान घाटी संघर्ष के दौरान चीन को एक इंच भी जमीन नहीं मिली है।

राहुल गांधी को पढ़ना चाइये ऑस्ट्रेलियाई अखबार-
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि, राहुल गांधी ने चीनी मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स का हवाला दिया है जबकि उन्हें ऑस्ट्रेलियाई अखबार पढ़ना चाहिए था जिसमें गलवान घाटी में हुए संघर्ष के दौरान करीब 40-50 लोगों के हताहत होने की संभावना का जिक्र किया गया था। राजनाथ सिंह ने कहा कि जब गलवान झड़प हुई तब राहुल गांधी खुद चीनी राजदूत के साथ डिनर कर रहे थे. उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री नेहरू और इंदिरा गांधी पर चीन और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर पर त्रुटिपूर्ण नीति अपनाने का आरोप लगाया।

क्या राहुल गांधी को इतिहास नहीं पता था: राजनाथ-
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि, क्या राहुल गांधी को इतिहास नहीं पता था. मैं बता दूं कि पाकिस्तान ने शक्सगाम घाटी को चीन को सौंप दिया, उस समय भारत के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू थे. इतना ही नहीं जब पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में काराकोरम दर्रे का निर्माण किया गया तब भारत की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी थीं और आप कह रहे हैं कि भारत की गलत विदेश नीति की वजह से पाक-चीन करीब आए।

राहुल गांधी पर साधा निशाना-
उन्होंने कहा कि, गलवान घाटी में चीन के सैनिकों के साथ हुई झड़प में हमारे सैनिकों ने सर्वोच्च बलिदान दिया है। चीन की कोशिशों के बावजूद हमारे सैनिकों ने अपनी जान दे दी, लेकिन अपनी जमीन की एक इंच हिस्से पर भी चीन का कब्जा नहीं होने दिया. राहुल गांधी ने कहा था कि भारत ने अधिक सैनिकों को खो दिया लेकिन चीन के सिर्फ चार सैनिक गलवान घाटी में मारे गए। रक्षा मंत्री ने पूछा कि क्या आपको चीन के सरकारी अखबार पर भरोसा है। आपको ऑस्ट्रेलिया का अखबार भी पढ़ना चाहिए जिसमें बताया गया है कि, गलवान घाटी में हुई झड़प में 40-50 चीनी सैनिकों के मारे जाने की संभावना है।