Basant Panchami 2022: बसंत पंचमी पर क्यों पहनते हैं पीले रंग के कपड़े? इन डिश के साथ करें सेलिब्रेट

बसंत पंचमी देश भर में 5 फरवरी को मनाई जाएगी। कई लोग बसंत पंचमी के दिन को ‘सरस्वती पूजा’ के रूप में मनाते हैं। ‘बसंत’ शब्द का अर्थ है वसंत और ‘पंचमी’ हिंदू कैलेंडर के मुताबिक ‘माघ’ महीने के पांचवे दिन को दर्शाता है। इस शुभ दिन पर बच्चों को पढ़ने और लिखने से परिचित कराया जाता है। इसे ज्ञान और ज्ञान की देवी सरस्वती के साथ सीखने की एक धन्य शुरुआत के रूप में माना जाता है।

क्यों पहने जाते हैं पीले रंग के कपड़े?

वसंत की शुरुआत का प्रतीक त्योहार वसंत के लिए कई रूपों के साथ मनाया जाता है। लोग रंग-बिरंगे कपड़े पहनते हैं और मौसमी खाने का लुत्फ उठाते हैं। कई समुदाय पतंग उड़ाते हैं और तरह-तरह के खेल खेलते हैं। त्योहार में पीले रंग का गहरा महत्व है। बसंत (वसंत) का रंग पीला होता है, जिसे ‘बसंती’ रंग भी कहा जाता है। यह समृद्धि, प्रकाश, एनर्जी और आशावाद का प्रतीक है। यही कारण है कि लोग इस दिन पीले रंग के कपड़े पहनते हैं और पीले रंग में पारंपरिक डिश बनाते हैं। इस शुभ अवसर पर जो पारंपरिक व्यंजन बनाए जाते हैं, वे काफी टेस्टी और हेल्दी भी होते हैं।

पीले रंग की डिश के साथ मनाएं बसंत पंचमी

1) मीठे चावल 

मीठे चावल पंजाबी घरों में खास मौकों पर बनते हैं, लेकिन बसंत पंचमी पर बनने वाली ‘मीठे चावल’ काफी खास होती है। इलायची, लौंग, दालचीनी और केसर जैसे खूशबूदार मसालों का इस्तेमाल किया जाता है। केसर, खूशबू और स्वाद जोड़ने के अलावा, चावल को एक सुंदर पीला रंग भी देता है, जो इसे बसंत पंचमी के लिए एकदम सही डिश बनाता है।

2) केसरिया शीरा

बसंत पंचमी के दिन महाराष्ट्रीयन या गुजराती घरों में सूजी और दूध से बनी मिठाई बनाई जाती हैं। यह मीठा ट्रीट बादाम और काजू जैसे चंकी नट्स से भरा हुआ है, इसी के साथ केसर और इलायची के साथ इसे खुशबूदार बनाया जाता है।

3) बूंदी के लड्डू 

बूंदी के लड्डू किसी भी शुभ अवसर या पूजा के लिए हर भारतीय के पसंद होते हैं और बसंत पंचमी के लिए बेहतरीन हैं। अपने प्यारे पीले नारंगी रंग के कारण, यह पूरी तरह से बसंत पंचमी त्योहार की भावना के अनुरूप है। बूंदी के लड्डू और मोतीचूर के लड्डू घर पर आसानी से तैयार किए जा सकते हैं।

4) राजभोग 

राजभोग एक पारंपरिक बंगाली मिठाई है जिसे पनीर से बनाया जाता है, इसे बादाम और पिस्ता से फिल किया जाता है। केसर, इलायची पाउडर, बादाम और पिस्ता के मिश्रण के साथ स्पंजी ट्रीट को तैयार किया जाता है। राजभोग बंगाल में हर उत्सव के अवसर का हिस्सा है, लेकिन अपने विशिष्ट पीले रंग के कारण, यह सरस्वती पूजा फेस्टिवल के दौरान एक फेमस डिश बनाता है।