बजट 2022: 3.8 करोड़ घरों तक पहुंचेगा नल, 60 हजार करोड़ रुपये हुए आवंटित

बजट 2022: आज जारी हुए आम बजट में सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन वाली हर घर नल से जल योजना को बजट में 2022-23 के लिए 60 हजार करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं, इससे वित्त वर्ष 2022-23 में 3 करोड़ 80 लाख नए ग्रामीण घरों में नल कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा गया है। बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि, प्रधानमंत्री मोदी जी के नेतृत्व में केंद्रीय वित्त मंत्री सीतारमण की तरफ से पेश आत्मनिर्भर भारत का बजट, 130 करोड़ भारतीयों को परिवर्तनकारी लाभ देगा।

केंद्रीय मंत्री शेखावत ने कहा कि, नल से जल के 3 करोड़ 80 लाख रुपये नए कनेक्शन, रासायनिक मुक्त कृषि के लिए गंगा किनारे 5 किलोमीटर चौड़ा गलियारा से लेकर केन-बेतवा लिंक परियोजना के माध्यम से बुंदेलखंड में सिंचाई के लिए पानी, यह सब सुनिश्चित करता है कि हर भारतीय की जरूरतों का बजट में पूरा करने का ध्यान रखा गया है. शत-प्रतिशत घरों तक नल से जल पहुंचाने के वादे को पूरा करने की मजबूत कार्ययोजना प्रस्तुत करता है।

5 नदी लिंक से दूर होगी पानी की कमी की समस्या-
पांच नदी जोड़ों लिंक दमनगंगा-पिंजाल, पार तापी-नर्मदा, गोदावरी-कृष्णा, कृष्णा-पेन्‍नार और पेन्‍नार-कोवेरी की ड्राफ्ट डीपीआर को अंतिम रूप दिए जाने और लाभार्थी राज्यों के बीच सहमति बनने पर केंद्र सरकार से कार्यान्वयन के लिए सहायता प्रदान करने का ऐलान किया गया है।

शेखावत ने कहा कि, देशभर के 19 करोड़ 27 लाख 76 हजार 015 ग्रामीण परिवारों में से करीब 8 करोड़ 91 लाख से अधिक (46 फीसदी से अधिक) घरों में नल से जल मिलने लगा है. योजना की घोषणा के ढाई साल पूर्व 17 फीसदी से भी कम ग्रामीण घरों में नल से जल मिल रहा था. बीते ढाई साल के कार्यकाल में करीब 5 करोड़ 67 लाख नए नल से जल कनेक्शन दिए गए हैं।

केन-बेतवा लिंक प्रोजेक्ट को मिलेगी गति
केन-बेतवा लिंक प्रोजेक्ट पर शेखावत ने कहा कि, बजट में 1400 करोड़ रुपये के प्रावधान से इस प्रोजेक्ट को गति मिलेगी. 221 किलोमीटर लंबे लिंक वाले प्रोजेक्ट को दो चरणों में पूरा किया जाना है। प्रोजेक्ट का अनुमानित खर्च 46,605 करोड़ रुपये है, जिसमें केंद्र सरकार 39, 319 करोड़ रुपये खर्च करेगी. प्रोजेक्ट का सबसे बड़ा लाभ मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र को मिलेगा।