बजट 2022: एयर इंडिया के कर्ज को निपटाने के लिए सरकार ने दिया कोष, अतिरिक्त 51,971 करोड़ रुपये किए आवंटित

एयर इंडिया की सबसे हाई-प्रोफाइल विनिवेश प्रक्रिया को बंद करने के बाद, सरकार ने एयरलाइन के उस कर्ज को भी चुकाने का फैसला किया जिसे उसने स्पेशल पर्पस व्हीकल (एसपीवी) को हस्तांतरित किया था। केंद्रीय बजट 2022-23 में, सरकार ने एयर इंडिया की बकाया गारंटीकृत देनदारियों और इसकी अन्य विविध प्रतिबद्धताओं के निपटान के लिए अतिरिक्त 51,971 करोड़ रुपये आवंटित किए। इस राशि को वर्ष 2021-22 में कुल व्यय के संशोधित अनुमान में शामिल किया गया है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण के दौरान कहा, “बजट अनुमान 2021-22 में अनुमानित 34.83 लाख करोड़ रुपये के कुल व्यय के मुकाबले, संशोधित अनुमान 37.70 लाख करोड़ रुपये है। पूंजीगत व्यय का संशोधित अनुमान 6.03 लाख करोड़ रुपये है। इसमें एयर इंडिया की बकाया गारंटीकृत देनदारियों और इसकी अन्य विविध प्रतिबद्धताओं के निपटान के लिए 51,971 करोड़ रुपये की राशि शामिल है, ”

टाटा समूह ने 18,000 करोड़ रुपये में 27 जनवरी को बंद हुए सौदे में एयरलाइन में 100 प्रतिशत हिस्सेदारी हासिल कर ली। इसमें से 15,300 करोड़ रुपये कर्ज के रूप में लिए गए और 2,700 करोड़ रुपये केंद्र को नकद में दिए गए। एयरलाइन के साथ उच्च लागत वाले ऋण की सेवा के लिए, भारतीय स्टेट बैंक के नेतृत्व में एक संघ ने टाटा समूह को दीर्घकालिक ऋण प्रदान करने की योजना को मंजूरी दी है।