प्रशासन की ये कैसी अव्यवस्था उप तहसील बनाकर भूल गई सरकार

निखिलेश लाल मुंगेली – प्रशासन की ये कैसी अव्यवस्था पूर्व सरकार ने बना दी उप तहसील ..लेकिन वर्तमान सरकार को नही है सुध जिला प्रशासन नहीं बैठा पा रहा  तहसीलदार..किसान व आम नागरिक हो रहे हलाकान

जनहित से जुड़ी सरकार तक आवाज पहुंचाती ये खबर मुंगेली जिले की है जहाँ उप तहसील अमोरा क्षेत्र के हज़ारों हज़ार किसान व ग्राम वासी रोजाना तहसीलदार न होने की वजह से दफ्तर दफ्तर भटकते है,,, प्रशासनिक अव्यवस्था का आलम ऐसा की न वर्तमान सरकार को सुध न जिला प्रशासन का ध्यान ,,दरअसल पथरिया विकासखंड के अमोरा में  बीजेपी शासन में उप तहसील बनाया गया..लेकिन 1 से दो सप्ताह ही यहाँ नायब तहसीलदार बैठे ..उसके बाद से  आज तक यहाँ न तो कोई तहसीलदार पहुचे और नही तहसील कार्यालय का ताला खुला..जिसके चलते राजस्व व तहसील संबंधित कार्यो के लिए किसानों व ग्रामीणों को तहसील कार्यालय पथरिया से लेकर जिला मुख्यालय का चक्कर काटना पड़ रहा है..प्रशासनिक अव्यवस्था की  पोल हम नही बल्कि ब्लॉक कांग्रेस कमेटी जरहागांव के अध्यक्ष रामचन्द्र साहू के द्वारा कलेक्टर अजीत वसन्त से की गई शिकायत पत्र खोल रही है..जिसमे कहा गया है कि पूर्ववती बीजेपी की सरकार में अमोरा उपतहसील बनाया गया ..उपतहसील कार्यालय अस्तित्व में आने कर बाद महज हफ्ता से पखवाड़े भर तक ही यहाँ नियुक्त किये गए नायब तहसीलदार पहुँचे उसके बाद न तो कोई तहसीलदार यहाँ पहुँचे और नही तहसील के कार्यालय खुला..इस पूरे मामले की शिकायत कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष रामचन्द्र साहू के द्वारा जिले के तत्कालीन कलेक्टर पी एस एल्मा से मार्च महीने में लिखित शिकायत की गई इसके बाद भी इस ओर जिला प्रशासन के द्वारा कोई ध्यान नही दिया गया..हुआ ये कि कलेक्टर एल्मा का ट्रांसफर अन्य जिला हो गया लेकिन समस्याएं ज्यों का त्यों है..यही वजह है कि एक बार फिर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रामचन्द्र साहू ने वर्तमान कलेक्टर अजीत वसन्त को स्मरण पत्र लिखकर मांग किया है कि इस उप तहसील में पूर्ण कालिक तहसीलदार की नियुक्ति की जाये.जिस पर कलेक्टर ने जल्द ही यहाँ पूर्ण कालिक नायब तहसीलदार की नियुक्ति की बात कही है..वही उन्होंने यह भी बताया कि वर्तमान में उक्त तहसील का प्रभार पास के ही नायब तहसीलदार के जिम्मा है..इसके बावजूद संचालन सही तरीके से नही हो पा रही है तो वे जल्द ही व्यवस्था को दुरुस्त कर लेंगे..